विश्व में कुल कितने महासागर है (Mahasagar ke Naam)

Share via Whatsapp

विश्व में कुल कितने महासागर है (Mahasagar ke Naam)

Vishv me Kul Kitne Mahasagar hai: आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे कि विश्व में कुल कितने महासागर है (Mahasagar ke Naam) l हम यहाँ पर आपको महासागरों (Vishv me kul kitne Mahasagar hai) के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देंगे l 

विश्व में कुल कितने महासागर है? (Mahasagar ke Naam)

आपको बता दें कि अंतरिक्ष से देखने पर हमारी पृथ्वी नीली दिखाई देती है ऐसा हमारी पृथ्वी पर पानी की उपस्थिति के कारण होता है l क्योंकि हमारी धरती पर पानी की मात्रा बहुत अधिक है इसमे लगभग 71% पर जल और 29% पर स्थल है l अर्थात पृथ्वी का दो तिहाई हिस्सा पानी से ढका हुआ है l 

आपको लग रहा होगा कि यदि हमारी धरती पर इतना जल मौजूद है तो फिर कई जगहों पर पानी की कमी क्यों देखने को मिलती है l हम धरती पर उपस्थित इस जल से जल की आपूर्ति क्यों नहीं कर लेते है? तो आपको बता दें की हमारी पृथ्वी 71% जल से ढकी होने के बावजूद भी हम इस जल का प्रयोग पीने हेतु या अन्य कार्यों में नहीं कर सकते है l क्योंकि पृथ्वी पर उपस्थित कुल जल का लगभग 97% भाग सागरों एवं महासागरों (Vishv me kul kitne Mahasagar hai) में ही है l अर्थात खारा जल है जो कि पीने योग्य नहीं है l 

पृथ्वी पर उपस्थित जल का केवल 3% ही पीने योग्य है l जिसमें से 2.4 प्रतिशत ग्लेशियरों और उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव में जमा हुआ है और केवल 0.6 प्रतिशत पानी नदियों, झीलों और तालाबों में है जिसे पीने हेतु एवं अन्य दैनिक कार्यो हेतु इस्तेमाल किया जा सकता है l 

यही कारण है कि पृथ्वी पर जल की अधिकता होने के कारण भी हम इस जल का प्रयोग नहीं कर पाते है l 

महासागर जलमंडल के महत्वपूर्ण भाग है और विश्व में कुल कितने महासागर है (Mahasagar ke Naam) को जानने से पहले हम यह जान लेते है कि महासागर (Vishv ke Mahasagar) किसे कहते है ? 

आइये जानते है कि महासागर किसे कहते है ?(Ocean in Hindi)

महासागर किसे कहते है? (Mahasagar in Hindi)

महासागर (Vishv ke Mahasagar) जलमंडल का एक प्रमुख भाग है। यह खारे पानी का एक विशाल क्षेत्र है। यह पृथ्वी के 96.6 भाग को अपने आप में समेटे हुए है।

हमारी पृथ्वी इन विशाल महासागरो की उपस्थिति के कारण ही अंतरिक्ष से देखने पर नीली दिखाई देती है l 

विश्व के महासागरों और समुद्रों का कुल क्षेत्रफल लगभग 367 मिलियन वर्ग किलोमीटर है। जल की अधिकता के कारण ही पृथ्वी को ‘जलीय ग्रह’ (Water Planet) कहा जाता है l और जल की उपस्थिति के कारण ही पृथ्वी पर जीवन संभव हो सका है l 

महासागर पृथ्वी के 7 महाद्वीपों (7 Continents) को आपस में जोड़ते है l इन 7 महाद्वीपों में ही विश्व की सारी जनसँख्या निवास करती है l 

अब आप जान गये होंगे कि महासागर (Vishv ke Mahasagar) किसे कहते है (Ocean in Hindi) l 

आइये जानते है पृथ्वी पर कुल कितने महासागर (Mahasagar) है और उनके नाम क्या है l 

विश्व में कुल कितने महासागर है? (Mahasagar ke Naam)

विश्व में कुल 5 महासागर (Vishv ke Mahasagar) है l ये 5 महासागर (Vishv ke Mahasagar) इस प्रकार है - 

1 प्रशांत महासागर (Pacific Ocean)

2 अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean)

3 हिंद महासागर (Indian Ocean)

4 आर्कटिक महासागर (Arctic Ocean)

5 अंटार्कटिका (Antarctica Ocean )

उपर्युक्त 5 महासागरो में प्रशांत महासागर विश्व में सबसे बड़ा एवं सबसे गहरा महासागर है जबकि आर्कटिक महासागर सबसे छोटा महासागर है l 

विश्व के 5 महासागर के नाम (Mahasagar ke Naam in Hindi)

क्र. सं 

महासागर 

क्षेत्रफल 

1.

प्रशांत महासागर 

165,250,000 कि॰मी^2

2.

अटलांटिक महासागर 

106,460,000 कि॰मी^2

3.

हिन्द महासागर 

70,560,000 कि॰मी^2

4.

अंटार्कटिका महासागर

21,960,000 कि॰मी^2

5.

आर्कटिक महासागर 

14,060,000 कि॰मी^2

विश्व के महासागर (Vishv ke Mahasagar)

विश्व में कुल कितने महासागर (Mahasagar) है और उनके नाम क्या है ये तो आप जान गए होंगे आइये इन 5 महासागरों (Vishv ke Mahasagar) के बारे में विस्तार से जानते है l 

प्रशांत महासागर (The Pacific Ocean) 

  • प्रशांत महासागर विश्व का सबसे बड़ा एवं सबसे गहरा महासागर है l 
  • यह विश्व के एक तिहाई भाग पर फैला हुआ है l 
  • प्रशांत महासागर का आकार वृत्ताकार है l 
  • इसके पूर्व में उत्तरी अमेरिका महाद्वीप एवं दक्षिण अमेरिका महाद्वीप एवं पश्चिम में एशिया महाद्वीप और ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप स्थित है l 
  • इसकी औसत गहराई 4,000 मीटर (13,000 फीट) है।
  • पश्चिमी उत्तर प्रशांत में स्थित मारियाना ट्रेंच में स्थित चैलेंजर डीप, दुनिया का सबसे गहरा बिंदु है, जिसकी गहराई 10,928 मीटर (35,853 फीट) है।
  • यह पृथ्वी की जल सतह का लगभग 46% और पृथ्वी की कुल सतह क्षेत्र का लगभग 32% है।
  • भूमध्य रेखा प्रशांत महासागर को दो भागों में विभाजित करती है - उत्तरी प्रशांत महासागर और दक्षिण प्रशांत महासागर।
  • प्रशांत महासागर फिलीपींस के तट से पनामा तक 9,455 मील चौड़ा और बेरिंग जलडमरूमध्य से दक्षिण अंटार्कटिका तक 10,492 मील लंबा है।
  • प्रशांत महासागर में दुनिया के सबसे अधिक द्वीप हैं। प्रशांत महासागर में लगभग 25,000 द्वीप हैं l 

अटलांटिक  महासागर (The Atlantic Ocean) 

  • अटलांटिक महासागर विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महासागर है l 
  • अटलांटिक महासागर को अंध महासागर भी कहा जाता है l 
  • यह पृथ्वी की सतह के लगभग 20% और इसके जल सतह क्षेत्र के लगभग 29% भाग पर स्थित है।
  • इसका आकार अंग्रेजी के ‘S’ अक्षर के सामान है l 
  • इस महासागर का आकार प्रशांत महासागर से आधा है l 
  • अटलांटिक महासागर के पूर्व में यूरोप और अफ्रीका एवं पश्चिम में उत्तरी अमेरिका एवं दक्षिण अमेरिका है l 
  • विश्व में सबसे अधिक व्यापार अटलांटिक महासागर से ही होता है अतः व्यापार की दृष्टि से यह सबसे व्यस्त महासागर है l 
  • उत्तरी अटलांटिक महासागर की सतह की लवणता अन्य समुद्रों की तुलना में काफी अधिक है। इसकी अधिकतम मात्रा 3.7 प्रतिशत है, जो 20°-30° उत्तरी अक्षांशों के बीच मौजूद है।
  • सबसे विशाल महासागर नहीं होने के बावजूद, अटलांटिक महासागर में दुनिया का सबसे बड़ा जल प्रवाह क्षेत्र आता है।

विश्व का सबसे बड़ा द्वीप ग्रीनलैंड है जो आर्कटिक और अटलांटिक महासागर के बीच कनाडा आर्कटिक द्वीपसमूह के पूर्व में स्थित है।

हिंद महासागर (The Indian Ocean)

  • हिंद महासागर विश्व का तीसरा सबसे बड़ा महासागर है l
  • इसका कुल क्षेत्रफल 70,560,000 कि॰मी^2 है l 
  • इसकी औसत गहराई 3,741 मी॰ है l  
  • इसकी आकृति अंग्रेजी के 'M' की भांति है।
  • यह विश्व के कुल जल का 20% जल कवर करता है l 
  • हिन्द महासागर विश्व का एकमात्र ऐसा महासागर है जिसका नाम किसी देश के नाम, यानी हिदुस्तान (India) के नाम पर पड़ा है l 
  • इसके उत्तर में भारतीय उपमहाद्वीप, पश्चिम में पूर्वी अफ्रीका, पूर्व में इंडोचीन, सुंडा द्वीप और ऑस्ट्रेलिया, और दक्षिण में दक्षिण ध्रुवीय महासागर स्थित है।
  • हिन्द महासागर को एक युवा महासागर कहा जाता है क्योंकि हिन्द महासागर ने 3.6 करोड़ वर्ष पहले ही अपना वर्तमान रूप ग्रहण किया है।
  • हिन्द महासागर के दक्षिण में एक ओर प्रशांत महासागर और दूसरी ओरअटलांटिक महासागर स्थित है।
  • हिन्द महासागर का सबसे बड़ा द्वीप मेडागास्कर है l 

अंटार्कटिका महासागर (The Antarctica Ocean)

  • अंटार्कटिक महासागर को ‘दक्षिणी महासागर’ भी कहते है क्योंकि यह पृथ्वी के सबसे दक्षिण में स्थित महासागर है l 
  • इसका विस्तार 60° दक्षिण अक्षांश से दक्षिण तक है और यह महासागर अंटार्कटिका  महाद्वीप के चारों ओर (उत्तर दिशा से) फैला हुआ है।
  • यह एकमात्र ऐसा महासागर है जो कि एक सम्पूर्ण महाद्वीप की सीमा बनाता है l 
  • कई भूगोलवेत्ताओं के अनुसार, यह एक स्वतंत्र महासागर नहीं है, बल्कि अटलांटिक महासागर, प्रशांत महासागर और हिंद महासागर का दक्षिणी विस्तार है।
  • यह विश्व का चौथा सबसे बड़ा महासागर है l 
  • अंटार्कटिक महासागर 21,960,000 वर्ग किमी में फैला है।
  • इस महासागर की औसत गहराई 3,270 मीटर और अधिकतम गहराई 7,432 मीटर है जो दक्षिण जॉर्जिया द्वीप के दक्षिण-पूर्व में दक्षिण सैंडविच खाई में है।
  • अंटार्कटिक महासागर की गहराई हॉर्न अंतरीप  के पास 600 मील और अफ्रीका के दक्षिण में अमूलहास अंतरीप के पास 2,400 मील है।

आर्कटिक महासागर (The Arctic Ocean)

  • आर्कटिक महासागर विश्व का सबसे छोटा महासागर है l 
  • आर्कटिक महासागर को ‘उत्तर ध्रुवीय महासागर’ भी कहते है l 
  • इसका कुल क्षेत्रफल 14,060,000 वर्ग किमी है।
  • यह रूस से छोटा एकमात्र महासागर है, जिसका क्षेत्रफल 16,377,742 किमी है l 
  • उत्तरी ध्रुवीय महासागर या 'आर्कटिक महासागर' पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में स्थित है।
  • यह यूरेशिया, उत्तरी अमेरिका (ग्रीनलैंड सहित) और आइसलैंड की भूमि से घिरा हुआ है।
  • आर्कटिक महासागर की सीमा वाले देश: रूस, नॉर्वे, आइसलैंड, ग्रीनलैंड (डेनमार्क साम्राज्य का क्षेत्र), कनाडा और संयुक्त राज्य अमेरिका हैं।
  • आर्कटिक महासागर अन्य सभी महासागरों में सबसे ठंडा है l 
  • आर्कटिक महासागर के पूर्व में यूरेशिया और पश्चिम में उत्तरी अमेरिका है l 
  • आर्कटिक महासागर अन्य महासागरों की तुलना में सबसे कम लवणता वाला महासागर है l 
  • यह लगभग साल भर समुद्री बर्फ से ढका रहता है l 

इंटरनेशनल हाइड्रोग्राफिक ऑर्गनाइजेशन (IHO) इसे एक महासागर के रूप में मान्यता देता है, हालाँकि कुछ समुद्र विज्ञानी इसे आर्कटिक भूमध्य सागर कहते हैं। इसे लगभग अटलांटिक महासागर के मुहाना के रूप में वर्णित किया गया है। इसे सर्वव्यापी विश्व महासागर के सबसे उत्तरी भाग के रूप में भी देखा जाता है।

यह भी पढ़े:

Comments