विश्व के 10 सबसे ऊँचे पर्वत शिखर


हम जानते हैं कि पृथ्वी पर विभिन्न प्रकार की प्रमुख भू-आकृतियाँ हैं जैसे - पर्वत, पठार, मैदान, मरुस्थल, एवं द्वीप समूह। भारत की भूमि भौतिक विभिन्नताओं को दर्शाती है l 

इस लेख में, हम विश्व के 10 सबसे ऊँचे पर्वत शिखर के बारे में जानेंगे। 

हिमालय पर्वत श्रंखला एक नवीन वलित पर्वत श्रंखला है जिसमे विश्व के सर्वोच्च शिखर, गहरी घाटियाँ एवं तेज़ बहने वाली नदियाँ है l 

हिमालय पर्वत श्रंखला पश्चिम में सिन्धु नदी से लेकर पूर्व में ब्रह्मपुत्र नदी तक विस्तृत है l हिमालय की कुल लम्बाई 2400 किमी है और यह अर्धवृत्त का निर्माण करता है l पश्चिम से पूर्व की दिशा में जाने पर इसकी चौड़ाई में कमी होते जाती है l कश्मीर में इसकी चौड़ाई 400 किमी और अरुणांचल प्रदेश में 150 किमी है l 

हिमालय पर्वत श्रंखला एशिया महाद्वीप में स्थित विश्व की सबसे ऊँची पर्वत श्रंखला है और एशिया में ही विश्व के 10 सर्वोच्च पर्वत शिखर स्थित है l 

विश्व के 10 सबसे ऊँचे पर्वत शिखर के बारे में जानने से पहले, आइए सबसे यह जान लेते है कि पर्वत किसे कहते है l 

पर्वत किसे कहते है?

पर्वत पृथ्वी की सतह पर प्राकृतिक रूप से उभरी हुई भू-आकृति है। पर्वत का सिरा (शिखर) छोटा और आधार (सतह) चौड़ा होता है। पर्वत अपने आसपास के क्षेत्र से काफी ऊँचा होता है। पर्वत की ऊंचाई पृथ्वी के आधार से 600 मीटर अधिक होनी चाहिए। पर्वत कुल सतह क्षेत्र के 26% क्षेत्र में विस्तृत है। 

यदि आपको भी पर्वतों के विषय में पढना अच्छा लगता है तो यह लेख आपके लिए है। इस लेख में पर्वतों के विषय में बहुत-सी जानकारी दी गयी है, जो प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है।

इस लेख में आप पर्वतों के बारे में रोचक तथ्य जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं हमारा टॉपिक, विश्व के 10 सबसे ऊँचे पर्वत शिखर l 

नीचे दी गई तालिका में आप विश्व के सबसे ऊंचे पर्वतों की सूची देख सकते हैं । 

क्र.सं.

पर्वत का नाम

मीटर में ऊँचाई

फीट में ऊंचाई

पर्वत श्रृंखला

देश

1.

माउंट एवरेस्ट (एवरेस्ट का दूसरा नाम - सागरमाथा चोमोलुंगमा)

8,848.86

29,031.7

महालंगुर हिमालय 

नेपाल, चीन

2.

K2

8,611

28,251

बाल्टोरो काराकोरम

पाकिस्तान, चीन

3.

कंचनजंगा

8,586

28,169

कंचनजंगा हिमालय

नेपाल, भारत

4.

ल्होत्से

8,516

26,940

महालंगुर हिमालय 

नेपाल, चीन

5.

मकालु

8,485

26,838 

महालंगुर हिमालय 

नेपाल, चीन

6.

चो ओयू

8,188

26,864

महालंगुर हिमालय 

नेपाल, चीन

7.

धौलागिरी I

8,167

26,795

धौलागिरी हिमालय 

नेपाल

8.

मानस्लु

8,163

26,781

मनास्लु हिमालय

नेपाल

9.

नंगा पर्वत

8,126

26,660

नंगा पर्वत हिमालय

पाकिस्तान

10.

अन्नपूर्णा I

8,091

26,545 

अन्नपूर्णा हिमालय 

नेपाल

अब हम उपरोक्त पर्वतों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

vishv ke 10 sabse unche parvat

1. माउंट एवरेस्ट (Mount Everest)

माउंट एवरेस्ट

माउंट एवरेस्ट विश्व का सबसे ऊंचा पर्वत है। माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 8,848.86 मीटर है। फुट में माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 29,031.7 फुट है। यह हिमालय के महालंगुर हिमालय उप-श्रेणी में स्थित है। माउंट एवरेस्ट से पहले, माउंट कंचनजंगा को दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माना जाता था। माउंट एवरेस्ट नेपाल और तिब्बत, चीन के स्वायत्त क्षेत्र के बीच की सीमा पर स्थित है।

माउंट एवरेस्ट को पहले अंग्रेजों द्वारा पीक XV के रूप में जाना जाता था, लेकिन उन्नीसवीं शताब्दी में इसका नाम बदलकर भारत के पूर्व सर्वेक्षक जनरल जॉर्ज एवरेस्ट के नाम पर रखा गया था । 

माउंट एवरेस्ट का तिब्बती नाम चोमोलुंगमा है, जिसका अर्थ है “पर्वतों की रानी”l माउंट एवरेस्ट का नेपाली नाम सागरमाथा है, जिसका अर्थ है “आकाश की देवी”। माउंट एवरेस्ट पर चढाई करने की लागत लगभग $45,000.00 (भारत में 32,000,00 रुपये) है।

एवरेस्ट के रिकॉर्ड 

  • एवरेस्ट की चोटी पर 1953 में पहुँचने वाले प्रथम व्यक्ति नेपाली मूल के भारतीय नागरिक तेनजिंग नोर्गे, और न्यूजीलैंड के एडमंड हिलेरी थे l उन्होंने दक्षिणपूर्वी रिज मार्ग का इस्तेमाल किया था।
  • 1975 में एवरेस्ट पर चढ़ने वाली प्रथम महिला जुंको तेबई (जापानी पर्वतारोही) थी l
  • बछेंद्री पाल 1984 में माउंट एवरेस्ट के शिखर पर पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला थीं। (उन्हें 2019 में भारत सरकार द्वारा तीसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।)
  • संतोष यादव विश्व में दो बार (1992 और 1993 में) माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला थी।
  • अवतार सिंह चीमा 1965 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले पहले भारतीय थे ।
  • एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ने वाली पहली विकलांग महिला अरुणिमा सिन्हा है l 
  • मल्वाथा पूर्णा (13 साल और 11 महीने),  25 मई, 2014 को भारत से माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे कम उम्र की महिला है।
  • नेपाल की कामी रीता शेरपा के नाम सबसे अधिक बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का रिकॉर्ड है। वह 20 मई, 2019 तक 24 बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़ चुके हैं ।
  • कैलिफोर्निया के जॉर्डन रोमेरो (13 साल, 10 महीने, 10 दिन) 22 मई 2010 को माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति थे ।

माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का प्रयास करने वालो में मृत्यु दर लगभग 6.5% है l 

2. माउंट K2 (Godwin Austen)

माउंट k2

माउंट K2 विश्व का दूसरा सबसे ऊंचा पर्वत है। माउंट के2 की ऊंचाई 8,848 मीटर (29,029 फीट) है। माउंट K2 उत्तर-पश्चिमी काराकोरम रेंज में स्थित है। 

यह बाल्टिस्तान (पाकिस्तान) और झिंजियांग (चीन) के बीच चीन-पाकिस्तान सीमा पर स्थित है।

इस पर्वत की खोज 1856 में कर्नल थॉमस मोंटगोमेरी ने की थी। इस पर्वत को थॉमस मोंटगोमेरी द्वारा प्रतीक K2 दिया गया था क्योंकि यह काराकोरम रेंज में मापी गई दूसरी चोटी थी। माउंट K2 को स्थानीय रूप से छोगोरी के नाम से जाना जाता है।

हेनरी गॉडविन ऑस्टेन इस चोटी के पहले सर्वेक्षक थे इसलिए इसे गॉडविन ऑस्टेन का नाम भी दिया गया है । माउंट K2 को बर्बर माउंट के रूप में जाना जाता है क्योंकि एक अमेरिकी पर्वतारोही जॉर्ज बेल ने संवाददाताओं से कहा, "यह एक बर्बर पर्वत है जो आपको मारने की कोशिश करता है।"माउंट K2 के कुछ अन्य नाम "पर्वतों  का राजा" और "पर्वतारोहियों का पर्वत" हैं। 

माउंट K2 को माउंट एवरेस्ट से भी अधिक कठिन और खतरनाक माना जाता है। यह एक मात्र ऐसा पर्वत है जिस पर जाड़े के मौसम में कभी भी चढ़ाई नहीं की गई है और न ही कभी इसके पूर्वी मुख से चढ़ने का प्रयास किया गया है। पर्वतारोही अधिकतर जुलाई और अगस्त के महीनों में इस पर चढ़ने का प्रयास करते है l वर्ष का सबसे गर्म समय इस पर चढ़ना आसान बनाता है। 

जुलाई 1954 में दो इटली के पर्वतारोही अकिल कॉम्पैग्नोनी और लिनो लेसेडेली, k2 के शिखर पर पहुंचने वाले पहले व्यक्ति थे (अर्दितो डेसियो के नेतृत्व में इतालवी काराकोरम अभियान में)।

वांडा रटकीवि्ज़ (पोलिश पर्वतारोही) K2 के शिखर पर पहुंचने वाली पहली महिला थीं। वह माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली तीसरी व्यक्ति थीं।

3. कंचनजंगा पर्वत (Mount Kanchenjunga)

माउंट कंचनजंगा

कंचनजंगा विश्व का तीसरा सबसे ऊंचा पर्वत है। कंचनजंगा की ऊंचाई लगभग 8,586 मीटर (28,169 फीट) है। यह पूर्वी हिमालय में स्थित है। यह नेपाल और सिक्किम (भारत) के बीच की सीमा पर स्थित है ।

1852 तक, कंचनजंगा को दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत माना जाता था लेकिन 1856 के बाद आधिकारिक तौर पर यह घोषणा की गई कि कंचनजंगा माउंट एवरेस्ट और माउंट K2 के बाद विश्व का तीसरा सबसे ऊंचा पर्वत है । 

कंचनजंगा पर पहली बार जो ब्राउन और जॉर्ज बैंड ने 25 मई 1955 को ब्रिटिश अभियान के तहत चढ़ाई की थी। 

कंचनजंगा पर्वत को "बर्फ के पांच खजाने" के रूप में भी जाना जाता है ।

गिनेट हैरिसन 1998 में कंचनजंघा पर चढ़ाई करने पहली महिला थी।

[नोट: कंचनजंगा भारत की सबसे ऊंची चोटी है और माउंट K2 (गॉडविन ऑस्टेन) भारतीय उपमहाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी है।]

4. माउंट ल्होत्से (Mount Lhotse)

माउंट ल्होत्से

माउंट ल्होत्से विश्व का चौथा सबसे ऊंचा पर्वत है। माउंट ल्होत्से की ऊंचाई लगभग 8,516 मीटर (27,940 फीट) है।

माउंट ल्होत्से नेपाल के खुंबू क्षेत्र और चीन के तिब्बत की सीमा पर स्थित  है।

माउंट ल्होत्से दक्षिण कर्नल के माध्यम से माउंट एवरेस्ट से जुड़ा हुआ है । तिब्बती में ल्होत्से का अर्थ "दक्षिण शिखर" है। 

ल्होत्से के मुख्य शिखर पर पहली बार 18 मई 1956 को अर्न्स्ट रीस और फ्रिट्ज लुचसिंगर की स्विस टीम ने चढ़ाई की थी।

चैंटल मौदित 1996 में ल्होत्से के शिखर पर पहुंचने वाली पहली महिला बनीं।

अर्जुन वाजपेयी मई 2011 में 17 साल, 11 महीने और 16 दिन की उम्र में ल्होत्से पर चढ़ने वाले सबसे कम उम्र के पर्वतारोही बने । वह एक भारतीय पर्वतारोही हैं।

5. मकालू पर्वत (Mount Makalu)

माउंट मकालू

माउंट मकालू विश्व का पांचवां सबसे ऊंचा पर्वत है। मकालू पर्वत की ऊंचाई लगभग 8481 मीटर (27825 फीट) है। यह महालंगुर हिमालय में एवरेस्ट से 20 किमी दक्षिण पूर्व में, नेपाल और तिब्बत, चीन के एक स्वायत्त क्षेत्र के बीच की सीमा पर स्थित है।

माउंट मकालू पर पहली बार 15 मई, 1955 को जीन फ्रेंको के नेतृत्व में एक फ्रांसीसी अभियान के लियोनेल टेरे और जीन कॉज़ी द्वारा चढ़ाई की गई थी ।

किट्टी काल्होन 1990 में वेस्ट पिलर मार्ग से माउंट मकालू पर चढ़ने वाली पहली महिला थीं ।

6. चो ओयू पर्वत (Mount Cho Oyu)

माउंट चो ओयू

चो ओयू पर्वत विश्व का छठा सबसे ऊंचा पर्वत है। चो ओयू पर्वत की ऊंचाई लगभग 8,188 मीटर (26,864 फीट) है। यह नेपाल-चीन सीमा के बीच स्थित है । यह पर्वत माउंट एवरेस्ट से 20 किमी पश्चिम में स्थित है। 

माउंट चो ओयू को चढ़ाई करने के लिए सबसे आसान 8000 मीटर चोटी माना जाता है।

माउंट चो ओयू पर पहली बार 19 अक्टूबर, 1954 को एक ऑस्ट्रियाई अभियान के तहत उत्तर-पश्चिमी रिज के माध्यम से हर्बर्ट टिची, जोसेफ जोक्लर और शेरपा पासंग दावा लामा द्वारा चढ़ाई गई थी।

यह पर्वत माउंट एवरेस्ट के बाद 8000 मीटर की ऊंचाई वाला दूसरा सबसे अधिक चढ़ाई किये जाने वाला पर्वत है। 

तिब्बती भाषा में चो ओयू का अर्थ है "नीले रंग की देवी"।

7. धौलागिरी पर्वत (Mount Dhaulagiri)

Mt Dhaulagiri image

धौलागिरी पर्वत विश्व का सातवां सबसे ऊंचा पर्वत है। धौलागिरी पर्वत की ऊंचाई लगभग 8167 मीटर है । इस पर्वत पर पहली बार स्विस/ऑस्ट्रेलियाई/नेपाली अभियान ने 13 मई 1960 को मैक्स इसेलिन के नेतृत्व में चढ़ाई की थी। धौलागिरी नाम संस्कृत से आया है जहां धवाला का अर्थ है चमकदार, सफेद, सुंदर और गिरि का अर्थ है पहाड़।

धौलागिरी एक देश (नेपाल) की सीमा के भीतर सबसे ऊंचा पर्वत है। धौलागिरी को 1836 तक सबसे ऊँचा पर्वत माना जाता था जब कंचनजंगा ने इसका स्थान लिया, इसके बाद 1858 में माउंट एवरेस्ट आया को सबसे ऊँचा पर्वत माना गया।

8. मनास्लु पर्वत (Mount Manaslu)

माउंट मानसलू

मनास्लु पर्वत विश्व का आठवां सबसे ऊंचा पर्वत है। मनास्लु पर्वत की ऊंचाई लगभग 8163 मीटर (26781 फीट) है। 

मनास्लु नाम संस्कृत शब्द 'मनसा' से आया है और इस शब्द का अर्थ 'बुद्धि या आत्मा' है और मनास्लु का अर्थ है "आत्मा का पर्वत”

स्थानीय लोगों द्वारा इसे 'हत्यारा पर्वत' भी कहा जाता है क्योंकि 1956 से 2006 के बीच 53 पर्वतारोहियों ने इस पर्वत में अपनी जान गंवाई थी । माउंट मनास्लु में है Mansiri Himal जो का हिस्सा है नेपाली हिमालय। 

यह पहली बार 9 मई, 1956 को तोशियो इमनिशी और ग्यालज़ेन नोरबा (जो जापानी अभियान के सदस्य हैं) द्वारा चढ़ाई गई थी ।

मनास्लु पर्वत अन्नपूर्णा पर्वत से लगभग 64 किमी पूर्व में है

अन्नपूर्णा, नंगा पर्वत और K2 के पीछे, माउंट मनास्लु चढ़ाई करने के लिए चौथी सबसे खतरनाक 8000 मीटर चोटी है

9. नंगा पर्वत (Nanga Parbat)

नंगा पर्वत

नंगा पर्वत विश्व का नौवां सबसे ऊंचा पर्वत है। नंगा पर्वत की ऊंचाई लगभग 8126 मीटर (26660 फीट) है।  

तिब्बती नाम में इस पर्वत को "डायमर या देओमिर" नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है "विशाल पर्वत"नंगा पर्वत पाकिस्तान नियंत्रित गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में स्थित है, जिसे भारत भी अपना हिस्सा मानता था। 

नंगा पर्वत अपनी कठिन चढ़ाई और पर्वतारोहियों की मृत्यु की उच्च संख्या के कारण एक ‘हत्यारा पर्वत’ के रूप में जाना जाता है ।

इस पर पहली बार 3 जुलाई, 1953 को एक ऑस्ट्रेलियाई पर्वतारोही, हरमन बुहल द्वारा चढ़ाई गई थी। वह पीटर असचेनब्रेनर के नेतृत्व में एक जर्मन-ऑस्ट्रियाई टीम के सदस्य थे । 

नंगा पर्वत नाम संस्कृत शब्द "नगना और पर्वत" से लिया गया है , जिसका अर्थ है "नग्न पर्वत"

10. अन्नपूर्णा पर्वत (Mount Annapurna)

माउंट अन्नपूर्णा

अन्नपूर्णा पर्वत विश्व का दसवां सबसे ऊँचा पर्वत है। अन्नपूर्णा पर्वत की ऊंचाई लगभग 8091 मीटर (26545 फीट) है । 

यह हिमालय में उत्तर-मध्य नेपाल में स्थित है। इस पर पहली बार 3 जून 1950 को फ्रांसीसी पर्वतारोही मौरिस हर्ज़ोग और लुई लाचेनाल ने चढ़ाई की थी । 

इस पहाड़ पर चढ़ना बहुत मुश्किल है। जोखिम के लिहाज से यह दुनिया का सबसे खतरनाक पर्वत है।

सफल चढ़ाई की तुलना में इस चढ़ाई के दौरान मृत्यु दर लगभग चालीस प्रतिशत है ( माउंट K2 की मृत्यु दर लगभग 26.5% और माउंट एवरेस्ट लगभग 3.87% है)। 

गंडकी कण्ठ अन्नपूर्णा पर्वत को धौलागिरी पर्वत से अलग करती है।

अन्नपूर्णा पर्वत-समूह में चार मुख्य शिखर शामिल हैं - अन्नपूर्णा I (8091 मीटर, 26545 फीट रेंज के पश्चिमी छोर पर स्थित है), और अन्नपूर्णा II (7937 मीटर, 26040 फीट रेंज के पूर्वी छोर पर स्थित है)। अन्नपूर्णा III (7555 मीटर, 24786 फीट), और अन्नपूर्णा IV (7525 मीटर, 24688 फीट) उनके बीच स्थित है।

विश्व के 10 सबसे ऊंचे पर्वत अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.1 माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई कितनी है?

8,848.86 मीटर (29,031.7 फीट)

Q.2 क्या माउंट एवरेस्ट भारत में है?

नहीं, माउंट एवरेस्ट नेपाल और तिब्बत की सीमा पर स्थित है

Q.3 माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला कौन थी?

जूनको तेबेई (जापानी पर्वतारोही) 16 मई, 1975 को माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला थीं।

Q.4 विश्व में माउंट एवरेस्ट कहाँ स्थित है?

माउंट एवरेस्ट हिमालय के महालंगुर हिमालय उप-श्रेणी में स्थित है। यह नेपाल और तिब्बत की सीमा पर स्थित है।

Q.5 माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई क्या है?

8,848.86 मीटर (29,031.7 फीट)

Q.6 विश्व का सबसे ऊँचा पर्वत कौन सा है?

माउंट एवरेस्ट 8848.6 मीटर (29,031.7 फीट) की ऊंचाई के साथ विश्व का सबसे ऊंचा पर्वत है ।

Q.7 2021 में दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत कौन सा है?

माउंट एवरेस्ट 

Q.8 विश्व का सबसे ऊँचा पर्वत कहाँ है?

नेपाल और तिब्बत की सीमा पर 

Q.9 विश्व का सबसे ऊंचा पर्वत उद्यान कौन सा है?

Q.10 विश्व के तीन सबसे ऊंचे पर्वत कौन से हैं?

  1. माउंट एवरेस्ट, 8,848.86 मीटर (29,031.7 फीट)
  2. माउंट K2, 8,848 मीटर (29,029 फीट)
  3. कंचनजंगा पर्वत, 8,586 मीटर (28,169 फीट)

Q.11 विश्व के पांच सबसे ऊंचे पर्वत कौन से हैं?

  1. माउंट एवरेस्ट, 8,848.86 मीटर (29,031.7 फीट)
  2. माउंट K2, 8,848 मीटर (29,029 फीट)
  3. कंचनजंगा पर्वत, 8,586 मीटर (28,169 फीट)
  4. माउंट ल्होत्से, 8,516 मीटर (27,940 फीट)
  5. माउंट मकालू, 8481 मीटर (27825 फीट)

Q.12 विश्व का सबसे ऊँचा पर्वत कौन सा है?

माउंट एवरेस्ट

Q.13 माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई कितनी है?

8,848.86 मीटर (29,031.7 फीट)

Q.14 माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई की गणना किसने की?

जॉर्ज एवरेस्ट

Q.15 माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई फीट में कितनी है? 

29,031.7 फीट

Q.16 माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने में कितना खर्च आता है?

माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने की लागत लगभग $45,000.00 (भारत में 32,000,00 रुपये) है। 

Q.17 भारतीय रुपये में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने में कितना खर्च आता है?

लगभग 32,000,00 रु 

Q.19 माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति कौन हैं?

कैलिफोर्निया के जॉर्डन रोमेरो (13 साल, 10 महीने, 10 दिन के) 22 मई 2010 को माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति थे।

Q.20 माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय कौन हैं?

भारत की मालवथा पूर्णा (13 साल और 11 महीने की) 25 मई 2014 को माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे कम उम्र की लड़की थीं।

Q.21 माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली सबसे कम उम्र की लड़की कौन है?

मालवथा पूर्णा

Q.22 माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले पहले भारतीय कौन थे?

अवतार सिंह चीमा 1965 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले पहले भारतीय थे

Q.23 कंचनजंगा पर सबसे पहले किसने चढ़ाई की?

कंचनजंगा पर पहली बार जो ब्राउन और जॉर्ज बैंड ने 25 मई 1955 को ब्रिटिश अभियान के तहत चढ़ाई की थी। 

Q.24 कंचनजंगा कहाँ स्थित है?

कंचनजंगा पूर्वी हिमालय में स्थित है। यह नेपाल और सिक्किम (भारत) के बीच की सीमा पर स्थित है ।

Q.26 कंचनजंगा किस देश में है?

भारत 

Q.27 माउंट एवरेस्ट की खोज से पहले दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत कौन सा था?

1852 तक, कंचनजंगा को दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत माना जाता था l 

लेकिन 1856 के बाद आधिकारिक तौर पर यह घोषणा की गई कि कंचनजंगा, माउंट एवरेस्ट और माउंट K2 के बाद दुनिया का तीसरा सबसे ऊंचा पर्वत है । 

Q.28 भारत का सबसे ऊँचा पर्वत कौन सा है?

कंचनजंगा

Q.29 k2 को k2 क्यों कहा जाता है?

इस पर्वत को थॉमस मोंटगोमेरी द्वारा प्रतीक K2 दिया गया था क्योंकि यह काराकोरम रेंज में मापी गई दूसरी चोटी थी।

Q.30 k2 माउंट कहाँ है?

माउंट K2 उत्तर-पश्चिमी काराकोरम रेंज में स्थित है। 

यह बाल्टिस्तान (पाकिस्तान) और झिंजियांग (चीन) के बीच चीन-पाकिस्तान सीमा पर स्थित है।

Q.31 k2 की फीट में ऊंचाई कितनी है?

29,029 फीट

Q.33 सबसे पहले k2 पर कौन चढ़े?

जुलाई 1954 में दो इतालवी पर्वतारोही अकिल कॉम्पैग्नोनी और लिनो लेसेडेली k2 के शिखर पर पहुंचने वाले पहले व्यक्ति थे (अर्दितो डेसियो के नेतृत्व में इतालवी काराकोरम अभियान में)।

Q.34 मकालू किस देश में है?

नेपाल

Q.35 मकालू पर सबसे पहले किसने चढ़ाई की?

माउंट मकालू को पहली बार 15 मई, 1955 को जीन फ्रेंको के नेतृत्व में एक फ्रांसीसी अभियान के लियोनेल टेरे और जीन कॉज़ी द्वारा चढ़ाई गई थी।

Q.36 माउंट मकालू की लम्बाई है?

8481 मीटर (27825 फीट)

Q.37 मकालू पर्वत कहाँ स्थित है?

माउंट मकालू नेपाल और तिब्बत की सीमा पर स्थित है